नारी समाज का महत्वपूर्ण अंग हैं- एसएसपी

नारी समाज का महत्वपूर्ण अंग हैं- एसएसपी

नारी समाज का महत्वपूर्ण अंग हैं- एसएसपी

नारी समाज का महत्वपूर्ण अंग हैं- एसएसपी

नारी समाज का महत्वपूर्ण अंग हैं- एसएसपी [News VMH-Bharthana] भरथना, इटावा! नारी समाज का महत्वपूर्ण अंग हैं। इनके सम्मान, स्वाभिमान व रक्षा की जिम्मेदारी प्रत्येक व्यक्ति का सामाजिक व नैतिक दायित्व है। महिलायें बिना किसी संकोच व झिझक के अपनी बात कहने का भरपूर साहस रखें।

पारिवारिक झगडों को उत्पन्न न होने दें

उक्त बात रविवार को शासन की मंशानुरूप कस्बा पुलिस चौकी परिसर में महिलाओं की समस्याओं के निराकरण हेतु नवनिर्मित पिंक बूथ का शुभारम्भ करने पहुँचे वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संजय कुमार वर्मा ने कही। उन्होंने कहा कि जिस घर में औरत का सम्मान नहीं होता, उस घर का विनाश होना तय है, इसलिए हरसम्भव कोशिश करें कि पारिवारिक झगडों को उत्पन्न न होने दें। आवश्यकता पडने पर शासन द्वारा जारी हेल्पलाइनों व स्थानीय पुलिस का सहयोग लें। समाज में रहकर न ही किसी पर अत्याचार करें और न ही अत्याचार सहन करें।

Astrologer Sanjeev Chaturvedi

बालिकाओं को शिक्षित करने पर अवश्य बल दें

पुलिस का उद्देश्य है कि रात्रि के समय में भी महिलायें जब मार्ग से गुजरें, तो उनके मन में किसी भी प्रकार का भय व्याप्त न हो। उन्होंने कहा कि सभी लोग बालिकाओं को शिक्षित करने पर अवश्य बल दें। शासन की मंशा के अनुसार नवनिर्मित पिंक बूथ पर कोई भी पीडित युवती व महिला आकर मौजूद महिला उपनिरीक्षक व महिला कांस्टेविल को अपना प्रार्थना पत्र देकर अपनी समस्या बिना किसी संकोच के बता सकती है। उक्त पिंक बूथ पर एक महिला चौकी इंचार्ज सहित सभी महिला पुलिस कर्मी स्टाफ की तैनाती की जायेगी, जो रात्रि 9 बजे तक नियमित रूप से तैनात रहेगीं।

ये रहे मौजूद

इससे पहले वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने नवनिर्मित पिंक बूथ का फीता काटकर शुभारम्भ किया तथा पुलिस क्षेत्राधिकारी विवेक जावला, प्रभारी निरीक्षक देवेन्द्र सिंह, प्रभारी निरीक्षक (अपराध) नरेन्द्र मिश्रा व पालिकाध्यक्ष अजय कुमार यादव गुल्लू ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री वर्मा का गुलदस्ता भेंटकर स्वागत सम्मान किया। इस मौके पर एस0एस0आई0 जय सिंह, चौकी इंचार्ज हाकिम सिंह, उपनिरीक्षक राजेन्द्र सिंह, वीरेन्द्र सिंह चौहान, सभासद नूरबानो, सुशील पोरवाल, पूर्व सभासद निहालुद्दीन, सोनू कुमार, अंकित पोरवाल, गोविन्द गोस्वामी, रामजी भदौरिया आदि की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।

भरथना से तनुज व आसिफ

मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम भारत की पवित्र विरासत

Leave a comment